Remembering Bishan Singh Bedi: A Cricket Legend Passes Away 2024

Remembering Bishan Singh: अत्यंत दुख के साथ हम यह घोषणा कर रहे हैं कि सर्वकालिक महान क्रिकेटरों में से एक बिशन सिंह बेदी का निधन हो गया। बेदी, जो…वर्ष के थे, ने 23 अक्टूबर, 2023 को अंतिम सांस ली, और अपने पीछे एक ऐसी विरासत छोड़ गए जो क्रिकेट इतिहास के इतिहास में हमेशा अंकित रहेगी।

Remembering Bishan Singh 2024

25 सितंबर, 1946 को पंजाब के अमृतसर में जन्मे बेदी ने 1966 में भारतीय क्रिकेट टीम के लिए पदार्पण किया और दुनिया के सबसे बेहतरीन बाएं हाथ के स्पिनरों में से एक बन गए। अपनी बेदाग लाइन और लेंथ से बेदी ने दुनिया भर के बल्लेबाजों को चकमा दिया और 1970 के दशक के दौरान भारत की सफलता में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

बेदी का करियर 13 साल से अधिक का रहा, इस दौरान उन्होंने 67 टेस्ट मैचों और 10 एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैचों में भारत का प्रतिनिधित्व किया। वह अपने शास्त्रीय गेंदबाजी एक्शन के लिए जाने जाते थे, जिसमें सुंदरता और सटीकता का मिश्रण था। गेंद को फ्लाइट करने और किसी भी सतह पर टर्न लेने की उनकी क्षमता ने उन्हें सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाजों के लिए भी एक बुरा सपना बना दिया।

लेकिन बेदी सिर्फ एक क्रिकेटर से कहीं ज़्यादा थे। वह खेल के सच्चे राजदूत थे, उन्होंने हमेशा निष्पक्ष खेल और खेल भावना को बढ़ावा दिया। मैदान के बाहर वह अपनी मजबूत राय और निडर होकर अपनी बात कहने के लिए जाने जाते थे। बेदी कभी भी महत्वपूर्ण मुद्दों पर स्टैंड लेने से नहीं कतराते थे और खेल में उनका योगदान मैदान पर उनके प्रदर्शन से कहीं अधिक था।

अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद, बेदी ने युवा क्रिकेटरों को कोचिंग और सलाह देना शुरू कर दिया। वह खेल के विकास के प्रति अपने समर्पण के लिए जाने जाते थे और उन्होंने कई युवा स्पिनरों की प्रतिभा को निखारने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उनके ज्ञान और विशेषज्ञता को बहुत महत्व दिया जाता था, और अपने खेल के दिन समाप्त होने के बाद भी वे लंबे समय तक खेल में शामिल रहे।

भारतीय क्रिकेट पर बेदी के प्रभाव को कम करके नहीं आंका जा सकता। वह सुनील गावस्कर, कपिल देव और गुंडप्पा विश्वनाथ जैसे अन्य दिग्गजों के साथ भारतीय क्रिकेट के स्वर्ण युग का हिस्सा थे। दोनों ने मिलकर उस सफलता की नींव रखी जो आज भारतीय क्रिकेट को प्राप्त है।

जैसा कि हम बिशन सिंह बेदी के निधन पर शोक मना रहे हैं, आइए हम उन्हें सिर्फ एक क्रिकेटर के रूप में नहीं, बल्कि खेल के एक सच्चे सज्जन व्यक्ति के रूप में याद करें। क्रिकेट के प्रति उनका जुनून, कौशल और प्यार आने वाली पीढ़ियों को प्रेरित करता रहेगा। बेदी को हमेशा एक क्रिकेट लीजेंड और खेल के सच्चे प्रतीक के रूप में याद किया जाएगा।

error: Content is protected !!