Article 370: The Sting of Seven Decades Ends | Revocation of Article 370 | 2023

Revocation of Article 370, Jammu and Kashmir autonomy, recorganization of Jammu and Kashmir, Indian government initiatives, restoration of normalcy in Jammu and Kashmir

Revocation of Article 370 | 2023

5 अगस्त, 2019 को, भारत सरकार ने भारतीय संविधान के अनुच्छेद 370 को रद्द करके एक ऐतिहासिक कदम उठाया, जिससे जम्मू और कश्मीर की विशेष स्थिति प्रभावी रूप से समाप्त हो गई। इस कदम ने क्षेत्र के इतिहास में एक महत्वपूर्ण मोड़ ला दिया, जिससे सात दशकों से अधिक समय से चले आ रहे प्रावधान का अंत हो गया।

12 December 2023 | Dainik Jagran ePaper Headlines By Suresh Thakur | Article 370 | MP | OPS | ASI #M

अनुच्छेद 370, जिसे 1949 में लागू किया गया था, जम्मू और कश्मीर को एक निश्चित स्तर की स्वायत्तता प्रदान करता था, जिससे राज्य को अपना संविधान, ध्वज और अपने स्वयं के कानून बनाने की शक्ति मिलती थी। इसने रक्षा, विदेशी मामलों और संचार के मामलों को छोड़कर, राज्य में भारतीय कानूनों के आवेदन को भी प्रतिबंधित कर दिया।

जबकि अनुच्छेद 370 शुरू में एक अस्थायी प्रावधान के रूप में था, यह अनुमान से कहीं अधिक समय तक बना रहा। वर्षों से, यह एक विवादास्पद मुद्दा बन गया है, समर्थकों का तर्क है कि यह जम्मू और कश्मीर के लोगों को पहचान और सुरक्षा की भावना प्रदान करता है, जबकि आलोचकों का दावा है कि यह शेष भारत के साथ क्षेत्र के एकीकरण में बाधा डालता है।

अनुच्छेद 370 को हटाए जाने पर मिली-जुली प्रतिक्रिया हुई। इस कदम के समर्थकों ने इसे राष्ट्रीय एकता की दिशा में एक साहसिक कदम बताया, क्योंकि अब यह भारत सरकार को जम्मू-कश्मीर पर अपना अधिकार क्षेत्र बढ़ाने की अनुमति देगा, जिससे यह देश के अन्य राज्यों के बराबर आ जाएगा। उन्होंने तर्क दिया कि विशेष दर्जे ने क्षेत्र को विभिन्न केंद्र सरकार की योजनाओं और विकास पहलों से पूरी तरह लाभान्वित होने से रोक दिया है।

दूसरी ओर, ऐसे लोग भी थे जिन्होंने इस फैसले का विरोध किया और इसे जम्मू-कश्मीर के लोगों के अधिकारों का उल्लंघन माना। उन्होंने क्षेत्र की विशिष्ट पहचान के संभावित क्षरण और शेष भारत के साथ इसके संबंधों पर पड़ने वाले प्रभाव के बारे में चिंता व्यक्त की।

अनुच्छेद 370 के निरस्त होने के बाद हुए प्रमुख परिवर्तनों में से एक जम्मू और कश्मीर राज्य का पुनर्गठन था। राज्य को दो अलग-अलग केंद्र शासित प्रदेशों – जम्मू और कश्मीर और लद्दाख में विभाजित किया गया था। इस कदम का उद्देश्य क्षेत्र में बेहतर प्रशासन और विकास लाना है।

भारत सरकार ने तब से देश के बाकी हिस्सों में जम्मू और कश्मीर के सुचारु परिवर्तन और एकीकरण को सुनिश्चित करने के लिए कई कदम उठाए हैं। इनमें विभिन्न सामाजिक-आर्थिक विकास कार्यक्रमों का कार्यान्वयन, इंटरनेट सेवाओं की बहाली और अनुच्छेद 370 के निरस्त होने के बाद लगाए गए प्रतिबंधों में क्रमिक ढील शामिल है।

हालाँकि अनुच्छेद 370 के निरस्तीकरण के दीर्घकालिक प्रभाव का आकलन करना अभी भी जल्दबाजी होगी, लेकिन कुछ सकारात्मक विकास हुए हैं। इस क्षेत्र में बुनियादी ढांचे, पर्यटन और स्वास्थ्य देखभाल क्षेत्रों में निवेश में वृद्धि देखी गई है। इसके अलावा, क्षेत्र में शांति और स्थिरता को बढ़ावा देने के लिए सरकार के प्रयास सराहनीय रहे हैं।

हालाँकि, चुनौतियाँ अभी भी बनी हुई हैं। विस्थापित कश्मीरी पंडितों की वापसी सहित क्षेत्र में सामान्य स्थिति की बहाली प्राथमिकता बनी हुई है। सरकार के लिए मानवाधिकारों की सुरक्षा सुनिश्चित करना, समावेशिता को बढ़ावा देना और जम्मू-कश्मीर में सभी समुदायों के बीच अपनेपन की भावना को बढ़ावा देना महत्वपूर्ण है।

निष्कर्षतः, अनुच्छेद 370 का निरस्तीकरण जम्मू-कश्मीर के इतिहास में एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर साबित हुआ। हालाँकि इसने मिश्रित प्रतिक्रियाएँ उत्पन्न कीं, इसने क्षेत्र के विकास और शेष भारत के साथ एकीकरण के लिए नई संभावनाएँ खोल दीं। चुनौतियों से निपटने और क्षेत्र में शांति और स्थिरता को बढ़ावा देने के लिए सरकार के चल रहे प्रयास इसकी दीर्घकालिक सफलता के लिए महत्वपूर्ण हैं।

पिछला आर्टिकल पढने के लिए इस लिंक पर जाए- New Chief Minister of Chhattisgarh: Tribal leader Vishnudev Sai to Lead the State

error: Content is protected !!