RBI Increases the Limit of Payment through UPI 2023 | UPI App Downlolad in Google Play Store

RBI UPI Transaction Limit

RBI UPI Transaction Limit 2023

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने हाल ही में यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस (UPI) के माध्यम से भुगतान लेनदेन की सीमा में उल्लेखनीय वृद्धि की घोषणा की है। इस कदम का उद्देश्य डिजिटल भुगतान को बढ़ावा देना और देश भर में व्यक्तियों और व्यवसायों को अधिक सुविधा प्रदान करना है।

9 December 2023 | Dainik Jagran | Newspaper | ePaper | Headlines By Suresh Thakur | RBI | UPI | BJP

2016 में लॉन्च होने के बाद से यूपीआई ने काफी लोकप्रियता हासिल की है और भारत में लोगों के भुगतान करने के तरीके में क्रांति ला दी है। यह उपयोगकर्ताओं को एक ही मोबाइल एप्लिकेशन से कई बैंक खातों को लिंक करने की अनुमति देता है, जिससे फंड ट्रांसफर करना, बिलों का भुगतान करना और ऑनलाइन खरीदारी करना आसान हो जाता है।

पहले आरबीआई ने रुपये की सीमा तय की थी. UPI भुगतान के लिए प्रति लेनदेन 1 लाख रु. हालाँकि, उच्च-मूल्य वाले लेनदेन की बढ़ती संख्या और बढ़ी हुई सुविधा की आवश्यकता को देखते हुए, RBI ने सीमा को बढ़ाकर रु। प्रति लेनदेन 2 लाख।

लेनदेन सीमा में इस वृद्धि से उन व्यक्तियों और व्यवसायों को बहुत लाभ होगा जिन्हें अक्सर बड़े भुगतान करने की आवश्यकता होती है। यह उन्हें बिना किसी प्रतिबंध के निर्बाध रूप से लेनदेन करने में सक्षम बनाएगा, जिससे कई लेनदेन या वैकल्पिक भुगतान विधियों की आवश्यकता कम हो जाएगी।

ऊंची सीमा उन व्यवसायों के लिए विशेष रूप से फायदेमंद होगी जिन्हें थोक भुगतान करने या बड़े चालान का निपटान करने की आवश्यकता होती है। यह उनकी भुगतान प्रक्रियाओं को सुव्यवस्थित करेगा और उनकी परिचालन दक्षता को बढ़ाएगा।

इसके अलावा, बढ़ी हुई सीमा अधिक लोगों को डिजिटल भुगतान के तरीकों को अपनाने के लिए प्रोत्साहित करेगी, क्योंकि वे अब आसानी और आत्मविश्वास के साथ बड़े लेनदेन कर सकते हैं। यह कम नकदी वाली अर्थव्यवस्था बनाने और भौतिक मुद्रा पर निर्भरता कम करने के सरकार के दृष्टिकोण के अनुरूप है।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि जहां लेनदेन की सीमा बढ़ा दी गई है, वहीं आरबीआई ने सुरक्षा उपायों को बढ़ाने की आवश्यकता पर भी जोर दिया है। बैंकों और भुगतान सेवा प्रदाताओं से अपेक्षा की जाती है कि वे अपने सिस्टम को मजबूत करें और उपयोगकर्ताओं के हितों की सुरक्षा के लिए मजबूत प्रमाणीकरण प्रोटोकॉल लागू करें।

यूपीआई लेनदेन सीमा बढ़ाने का आरबीआई का निर्णय डिजिटल भुगतान प्रणालियों में बढ़ती स्वीकार्यता और विश्वास को दर्शाता है। यह डिजिटल-फर्स्ट अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने और सभी उपयोगकर्ताओं को निर्बाध भुगतान अनुभव प्रदान करने के लिए नियामक की प्रतिबद्धता को दर्शाता है।

उच्च लेनदेन सीमा के साथ, व्यक्ति और व्यवसाय अब आसानी से यूपीआई के माध्यम से बड़े भुगतान कर सकते हैं, जिससे बोझिल विकल्पों की आवश्यकता समाप्त हो जाती है। इससे न केवल समय की बचत होगी बल्कि भारत में डिजिटल भुगतान पारिस्थितिकी तंत्र के समग्र विकास में भी योगदान मिलेगा।

निष्कर्षतः, यूपीआई के माध्यम से भुगतान लेनदेन की सीमा बढ़ाने का आरबीआई का निर्णय डिजिटल भुगतान को बढ़ावा देने और परेशानी मुक्त लेनदेन को सक्षम करने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है। यह व्यक्तियों और व्यवसायों को आसानी से बड़े भुगतान करने के लिए सशक्त बनाएगा, जिससे भारत में डिजिटल भुगतान विधियों को अपनाने में और तेजी आएगी।

पिछला आर्टिकल पढने के लिए इस लिंक पर जाए- New Chief Minister 2023: Preparations for Government Formation Intensified

error: Content is protected !!