Aadhaar Can Also Be Issued to People Who Do Not Have Fingers or Eyes: Government

Aadhaar for individuals without, Aadhaar for individuals without fingers or eyes, inclusivity in India, facial recognition technology, government services, equal opportunities, Aadhaar, inclusivity,

Aadhaar for individuals without Fingers or Eyes: Government 2023

समावेशिता की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम में, भारत सरकार ने घोषणा की है कि आधार, देश की विशिष्ट पहचान प्रणाली, अब उन व्यक्तियों को भी जारी की जा सकती है जिनके पास उंगलियां या आंखें नहीं हैं। इस विकास का उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि प्रत्येक नागरिक को, उनकी शारीरिक क्षमताओं की परवाह किए बिना, आधार द्वारा प्रदान किए गए लाभों और सेवाओं तक पहुंच प्राप्त हो।

9 December 2023 | Dainik Jagran | Newspaper | ePaper | Headlines By Suresh Thakur | RBI | UPI | BJP

आधार, जो 12 अंकों की विशिष्ट पहचान संख्या है, भारतीय निवासियों के लिए एक आवश्यक दस्तावेज बन गया है। यह पहचान और पते के प्रमाण के रूप में कार्य करता है, जिससे व्यक्तियों को विभिन्न सरकारी सेवाओं, सब्सिडी और कल्याण कार्यक्रमों तक पहुंचने की अनुमति मिलती है। हालाँकि, अब तक, बिना उंगलियों या आंखों वाले व्यक्तियों को आधार कार्ड प्राप्त करने में चुनौतियों का सामना करना पड़ता था।

बिना उंगलियों या आंखों वाले लोगों को आधार जारी करने का सरकार का निर्णय तकनीकी प्रगति के परिणामस्वरूप आया है। भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (यूआईडीएआई), जो आधार का प्रबंधन करता है, ने एक नई प्रणाली विकसित की है जो उन व्यक्तियों की पहचान सत्यापित करने के लिए चेहरे की पहचान तकनीक और आईरिस स्कैन का उपयोग करती है जिनके पास उंगलियां या आंखें नहीं हैं।

यह अभिनव समाधान समावेशिता की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है, जो यह सुनिश्चित करता है कि हर कोई, भौतिक सीमाओं की परवाह किए बिना, समाज में पूरी तरह से भाग ले सके। यह विकलांग व्यक्तियों के सामने आने वाली बाधाओं को दूर करता है, जिससे उन्हें सरकारी सेवाओं और लाभों तक सहजता से पहुंचने में मदद मिलती है।

यूआईडीएआई द्वारा विकसित नई प्रणाली चेहरे की विशेषताओं और आईरिस पैटर्न को पकड़ने और उनका विश्लेषण करने के लिए उन्नत एल्गोरिदम का उपयोग करती है। फिर व्यक्ति की पहचान सत्यापित करने के लिए इन अद्वितीय बायोमेट्रिक विशेषताओं का आधार डेटाबेस में संग्रहीत डेटा से मिलान किया जाता है। इस तकनीक का बड़े पैमाने पर परीक्षण किया गया है और यह विश्वसनीय और सटीक साबित हुई है।

आधार नामांकन प्रक्रिया में चेहरे की पहचान तकनीक और आईरिस स्कैन को शामिल करके, सरकार बिना उंगलियों या आंखों वाले व्यक्तियों के लिए अपनी विशिष्ट पहचान संख्या प्राप्त करना आसान बना रही है। यह सुनिश्चित करता है कि वे स्वास्थ्य देखभाल, शिक्षा, रोजगार और वित्तीय सहायता जैसी सेवाओं तक बिना किसी बाधा के पहुंच सकें।

इसके अलावा, यह विकास सभी नागरिकों के लिए समावेशिता और समान अवसरों के प्रति सरकार की प्रतिबद्धता को मजबूत करता है। यह एक शक्तिशाली संदेश भेजता है कि प्रत्येक व्यक्ति को, अपनी शारीरिक क्षमताओं की परवाह किए बिना, समाज में पूरी तरह से भाग लेने और सरकारी पहल से लाभ उठाने का अधिकार है।

इस नई प्रणाली के कार्यान्वयन के लिए नामांकन कर्मचारियों के लिए विशेष प्रशिक्षण की आवश्यकता होगी ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि वे बिना उंगलियों या आंखों वाले व्यक्तियों की प्रभावी ढंग से सहायता कर सकें। सरकार ने इन व्यक्तियों के सामने आने वाली अनोखी चुनौतियों को पहचानते हुए उनसे निपटने में संवेदनशीलता और सहानुभूति के महत्व पर जोर दिया है।

इसके अलावा, सरकार ने डेटा सुरक्षा और गोपनीयता सुनिश्चित करने के लिए भी कदम उठाए हैं। नामांकन प्रक्रिया के दौरान एकत्र की गई बायोमेट्रिक जानकारी को सख्त दिशानिर्देशों और प्रोटोकॉल का पालन करते हुए सुरक्षित रूप से संग्रहीत और संरक्षित किया जाएगा। यह सुनिश्चित करता है कि व्यक्तियों की व्यक्तिगत जानकारी गोपनीय रहे और उसका दुरुपयोग न हो।

निष्कर्षतः, बिना उंगलियों या आंखों वाले व्यक्तियों को आधार जारी करने का भारत सरकार का निर्णय समावेशिता और समान अवसरों की दिशा में एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर है। चेहरे की पहचान तकनीक और आईरिस स्कैन को शामिल करके, सरकार ने विकलांग व्यक्तियों के लिए बाधाओं को समाप्त कर दिया है, जिससे उन्हें आसानी से सरकारी सेवाओं तक पहुंचने की अनुमति मिल गई है। यह कदम यह सुनिश्चित करने की सरकार की प्रतिबद्धता को उजागर करता है कि प्रत्येक नागरिक अपनी शारीरिक क्षमताओं की परवाह किए बिना समाज में पूरी तरह से भाग ले सके।

पिछला आर्टिकल पढने के लिए इस लिंक पर जाए- RBI Increases the Limit of Payment through UPI 2023 | UPI App Downlolad in Google Play Store

error: Content is protected !!