Kejrival: केजरीवाल आबकारी घोटाले के मुख्य साजिशकर्ता: ईडी 2024

Kejrival 2024

Kejrival: केजरीवाल आबकारी घोटाले के मुख्य साजिशकर्ता: ईडी 2024

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को आबकारी घोटाले के मुख्य साजिशकर्ता माना जा रहा है। इसकी जानकारी ईडी (ईकोनॉमिक ऑफेंसेस विभाग) ने दी है। ईडी ने केजरीवाल के खिलाफ केस दर्ज किया है और उनकी जांच शुरू कर दी है।

आबकारी घोटाला क्या है?

आबकारी घोटाला एक भ्रष्टाचार मामला है जिसमें आबकारी विभाग के अधिकारियों ने नशीली दारू की बिक्री पर नियंत्रण नहीं रखा और इससे बड़ी मात्रा में धन कमाया। यह मामला दिल्ली में सामान्यतः अधिकारियों और नेताओं के बीच चल रही थी। इसमें दारू की सप्लाई, दारू की कीमतों में अतिरिक्त मार्कअप, जालसाजी और बड़ी राशि में धन कमाने जैसे अपराध शामिल हैं।

केजरीवाल का योगदान

ईडी के मुताबिक, केजरीवाल ने आबकारी घोटाले में अपना योगदान दिया है। उन्होंने अपने अधिकारियों को नियंत्रित रखने की जिम्मेदारी नहीं ली और नशीली दारू की बिक्री को बढ़ाने के लिए उन्हें सहायता प्रदान की है। इसके अलावा, केजरीवाल ने भ्रष्टाचार के खिलाफ जागरूकता नहीं फैलाई और अपने अधिकारियों के अपराधों को छिपाने का प्रयास किया है।

केजरीवाल के खिलाफ मामला बड़ा है क्योंकि वे दिल्ली के मुख्यमंत्री हैं और उनकी जिम्मेदारी है कि वे राज्य के लोगों की सुरक्षा और हित के लिए काम करें। इसलिए, इस मामले में उनकी बड़ी जिम्मेदारी है।

ईडी की जांच

ईडी ने केजरीवाल के खिलाफ केस दर्ज किया है और उनकी जांच शुरू कर दी है। जांच के दौरान, ईडी आबकारी विभाग के अधिकारियों, नेताओं और अन्य लोगों के साथ मुद्दे को गहराई से जांचेगी। इसके बाद, ईडी अदालत में अपने प्रत्यारोपण प्रस्तुत करेगी।

ईडी की जांच के दौरान, केजरीवाल को अपने अधिकारियों के साथ उनके योगदान पर जवाबदेही स्वीकार करनी होगी। अगर उन्हें दोषित पाया जाता है, तो उन्हें उचित कार्रवाई करनी चाहिए।

Kejrival: मुख्यमंत्री की जिम्मेदारी

दिल्ली के मुख्यमंत्री को अपनी जिम्मेदारी समझनी चाहिए और वे इस मामले की जांच में पूरी तरह सहयोग करने के लिए तत्पर रहने चाहिए। वे इस मामले में निष्पक्षता और ईमानदारी से काम करने के लिए जाने जाते हैं। दिल्ली के लोगों को उन पर पूरा भरोसा है कि वे इस मामले को गंभीरता से लेंगे और उचित कार्रवाई करेंगे।

दिल्ली के लोगों को भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ने के लिए एकजुट होना चाहिए। वे अपनी आवाज़ बुलंद करें और अपने नेताओं को जवाबदेही महसूस कराएं। भ्रष्टाचार को खत्म करने के लिए सभी को साथ मिलकर काम करना होगा।

इस मामले में केजरीवाल को अपने अधिकारियों के साथ सहयोग करना चाहिए और उन्हें दोषित पाया जाता है तो उन्हें सख्त कार्रवाई करनी चाहिए। यह मामला दिल्ली के लोगों के लिए महत्वपूर्ण है और उन्हें भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ने के लिए एक संघर्ष का हिस्सा बनना चाहिए।

दैनिक जागरण के ऑफिसियल वेबसाइट पर जाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

दैनिक जागरण को pdf में डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें 

पिछला आर्टिकल (Citizenship Amendment Act) पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

error: Content is protected !!