The Impact of NCR’s Breathless Air Pollution on Eye Irritation 2024

NCR air pollution

The Impact of NCR’s Breathless Air Pollution on Eye Irritation 2024

भारत में राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (NCR) कई वर्षों से गंभीर वायु प्रदूषण से जूझ रहा है। इस क्षेत्र में जहरीली हवा की गुणवत्ता के कारण न केवल सांस संबंधी समस्याएं हो रही हैं, बल्कि लोगों की आंखों में भी कई तरह की परेशानियां हो रही हैं।

आंखों में जलन अत्यधिक प्रदूषित क्षेत्रों में रहने वाले व्यक्तियों द्वारा सामना की जाने वाली एक आम समस्या है। हवा में मौजूद प्रदूषक तत्व, जैसे कण पदार्थ, धूल और रसायन, आंखों में लालिमा, खुजली, जलन और पानी का कारण बन सकते हैं।

एनसीआर में आंखों में जलन का एक मुख्य कारण PM2.5 कणों की उच्च सांद्रता है। 2.5 माइक्रोमीटर व्यास से छोटे ये बारीक कण आसानी से आंखों में घुस सकते हैं और जलन पैदा कर सकते हैं। PM2.5 कणों के स्रोतों में वाहन उत्सर्जन, औद्योगिक प्रदूषक, निर्माण गतिविधियाँ और फसल जलाना शामिल हैं।

NCR air pollution

अध्ययनों से पता चला है कि PM2.5 कणों के उच्च स्तर के लंबे समय तक संपर्क में रहने से आंखों को दीर्घकालिक नुकसान हो सकता है। आंखों में लगातार जलन से सूखी आंखें, नेत्रश्लेष्मलाशोथ और यहां तक कि मोतियाबिंद जैसी स्थितियां विकसित होने का खतरा बढ़ सकता है। यह विशेष रूप से उन व्यक्तियों के लिए चिंताजनक है जिन्हें पहले से ही आंखों की कोई समस्या है।

आंखों के स्वास्थ्य पर वायु प्रदूषण का प्रभाव केवल वयस्कों तक ही सीमित नहीं है। बच्चे, अपनी विकासशील प्रतिरक्षा प्रणाली और छोटे वायुमार्ग के साथ, प्रदूषण के हानिकारक प्रभावों के प्रति अधिक संवेदनशील होते हैं। प्रदूषित हवा के संपर्क में आने से बच्चों में आंखों की एलर्जी, नेत्रश्लेष्मलाशोथ और आंखों के अन्य संक्रमण हो सकते हैं।

जब हमारी आंखों को वायु प्रदूषण के हानिकारक प्रभावों से बचाने की बात आती है तो रोकथाम महत्वपूर्ण है। यहां कुछ उपाय दिए गए हैं जो उठाए जा सकते हैं:

अत्यधिक प्रदूषित क्षेत्रों में बाहर निकलते समय चश्मा या धूप का चश्मा जैसे सुरक्षात्मक चश्मे पहनें।
अपनी आँखों को गंदे हाथों से रगड़ने से बचें, क्योंकि इससे आँखों में अधिक प्रदूषक तत्व जा सकते हैं।
आंखों में नमी बनाए रखने के लिए नेत्र रोग विशेषज्ञ द्वारा सुझाई गई चिकनाई वाली आई ड्रॉप्स का उपयोग करें।
इनडोर स्थानों को अच्छी तरह हवादार रखें और इनडोर वायु प्रदूषण को कम करने के लिए वायु शोधक का उपयोग करें।
उच्च प्रदूषण के समय, विशेषकर धुंध वाले दिनों में बाहरी गतिविधियों से बचें।

सरकार और नीति निर्माताओं के लिए भी वायु प्रदूषण से निपटने के लिए आवश्यक कदम उठाना महत्वपूर्ण है। उद्योगों और वाहनों के लिए सख्त उत्सर्जन मानदंडों को लागू करना, सार्वजनिक परिवहन के उपयोग को बढ़ावा देना और स्वच्छ ईंधन स्रोतों को अपनाने को प्रोत्साहित करना कुछ ऐसे उपाय हैं जो वायु गुणवत्ता में सुधार और निवासियों के स्वास्थ्य की रक्षा के लिए उठाए जा सकते हैं।

वायु प्रदूषण की समस्या और आंखों की जलन पर इसके प्रभाव को संबोधित करने के लिए व्यक्तियों, समुदायों और अधिकारियों के सामूहिक प्रयासों की आवश्यकता है। सक्रिय कदम उठाकर और स्वच्छ हवा के महत्व के बारे में जागरूकता फैलाकर, हम सभी के लिए एक स्वस्थ और सुरक्षित वातावरण बनाने की दिशा में काम कर सकते हैं।

पिछला आर्टिकल पढने के लिए इस लिंक पर जाए- The Struggle During Mahua’s Appearance

error: Content is protected !!