Citizenship Amendment Bill: हिंदू-सिख शरणार्थियों को मिलेगी भारत की नागरिकता

Citizenship Amendment Bill: भारत एक ऐसा देश है जहां अनेक धर्मों और संप्रदायों के लोगों को अपनी आज़ादी और स्वतंत्रता की सुरक्षा और सुरक्षा की गारंटी है। हिंदू और सिख शरणार्थी जो अपने देश से बाहर भागने के कारण विपरीत परिस्थितियों में हैं, उन्हें भारत की नागरिकता प्राप्त करने का अवसर मिलेगा।

Citizenship Amendment Bill 2024

भारतीय संविधान ने धारा 6 में नागरिकता के अवसरों को परिभाषित किया है, जिसमें शरणार्थी और विस्तार कर्ताओं को भी सम्मिलित किया गया है। यह धारा कहती है कि जो भी व्यक्ति भारत में निवास करने का अधिकार रखता है, वह भारतीय नागरिक हो सकता है। इसमें शामिल हैं वे लोग जो अपने देश से भागकर भारत में शरण लेते हैं और विपरीत परिस्थितियों में हैं।

हालांकि, पहले की तुलना में भारतीय नागरिकता के अवसर शरणार्थियों के लिए कम थे। इसलिए, सरकार ने नागरिकता संशोधन बिल, 2019 को पारित किया है, जिसके माध्यम से शरणार्थियों को नागरिकता प्राप्त करने के लिए आसानी से प्रक्रिया होगी। इस बिल के तहत, हिंदू, सिख, बौद्ध, जैन, पारसी और ईसाई धर्म के शरणार्थियों को भारतीय नागरिकता प्राप्त करने का अवसर मिलेगा।

यह नागरिकता संशोधन बिल शरणार्थियों के लिए कई लाभ प्रदान करेगा। सबसे महत्वपूर्ण लाभ यह है कि इससे शरणार्थियों को भारतीय नागरिकों के बराबर अधिकार और सुरक्षा की गारंटी मिलेगी। इससे उन्हें अपनी जीवन शरण स्थान में स्थायी रूप से बसने का अवसर मिलेगा। इसके अलावा, इस संशोधन बिल ने शरणार्थियों को शिक्षा, रोजगार, स्वास्थ्य और आर्थिक सहायता के लिए अवसर प्रदान करने का भी वादा किया है।

इस संशोधन बिल के तहत नागरिकता प्राप्त करने के लिए शरणार्थी को निम्नलिखित शर्तों को पूरा करना होगा:

  1. उन्हें भारत में निवास करने का कारण होना चाहिए।
  2. उन्हें किसी अन्य देश की नागरिकता से वंचित होना चाहिए।
  3. उन्हें भारतीय संविधान का आदान-प्रदान मान्य करना चाहिए।
  4. उन्हें भारतीय संविधान के तहत किसी अन्य धर्म के लोगों के खिलाफ भय या आपत्ति नहीं होनी चाहिए।
  5. उन्हें भारतीय संविधान के तहत किसी अन्य देश के नागरिकों के खिलाफ भय या आपत्ति नहीं होनी चाहिए।

इस संशोधन बिल के बाद से, हिंदू और सिख शरणार्थियों को भारतीय नागरिकता प्राप्त करने के लिए अधिकारिक प्रक्रिया आसान हो गई है। इससे उन्हें अपने अधिकारों का उपयोग करने का अवसर मिलेगा और वे अपने जीवन को नया आयाम दे सकेंगे।

भारतीय संविधान ने सभी लोगों को समानता, स्वतंत्रता और न्याय के अधिकारों की गारंटी दी है। हिंदू और सिख शरणार्थियों को भारतीय नागरिकता प्राप्त करने का अवसर मिलना, उन्हें इस देश में सुरक्षा और सुरक्षा की गारंटी देना है। यह निश्चित रूप से भारत के लिए गर्व की बात है।

दैनिक जागरण के ऑफिसियल वेबसाइट पर जाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

दैनिक जागरण को pdf में डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें 

पिछला आर्टिकल (Election Commissioner) पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

error: Content is protected !!