The Recommendation of the Word Bharat in New NCERT Books 2024

Recently, there has been a recommendation to use the word ‘Bharat’ instead of ‘India’ in the new NCERT books. This suggestion has sparked a debate among educators, historians, and the general public. While some argue that the change is necessary to promote a sense of national identity and cultural pride, others believe that it is unnecessary and may lead to confusion.

सिफ़ारिश के समर्थकों का तर्क है कि ‘भारत’ हमारे देश का प्राचीन नाम है और इसका गहरा ऐतिहासिक और सांस्कृतिक महत्व है। इस शब्द का उपयोग करके, उनका मानना है कि हम अपनी समृद्ध विरासत के साथ फिर से जुड़ सकते हैं और अपने युवा शिक्षार्थियों में गर्व की भावना पैदा कर सकते हैं। उनका तर्क है कि ‘इंडिया’ का वर्तमान उपयोग एक औपनिवेशिक विरासत है और यह हमारे राष्ट्र के सार का सटीक प्रतिनिधित्व नहीं करता है।

दूसरी ओर, सिफ़ारिश के विरोधियों का तर्क है कि नाम बदलकर ‘भारत’ करने से छात्रों में भ्रम पैदा हो सकता है. उनका तर्क है कि ‘इंडिया’ हमारे देश के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त नाम है और इसे बदलने से वैश्विक संदर्भ में गलतफहमियां पैदा हो सकती हैं। उनका यह भी तर्क है कि वर्तमान पाठ्यपुस्तकें पहले से ही हमारे राष्ट्र के ऐतिहासिक और सांस्कृतिक पहलुओं को कवर करती हैं, और नाम बदलना अनावश्यक है।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि ‘इंडिया’ के स्थान पर ‘भारत’ का उपयोग करने की सिफारिश बिना मिसाल के नहीं है। भारतीय संविधान के अनुच्छेद 1 में हमारे देश को ‘भारत’ के रूप में संदर्भित किया गया है, और कई आधिकारिक दस्तावेज़ और सरकारी संचार भी इस शब्द का उपयोग करते हैं। हालाँकि, हाल के वर्षों में, विशेषकर अंतर्राष्ट्रीय क्षेत्र में, ‘इंडिया’ का उपयोग अधिक प्रचलित हो गया है।

अंततः, सिफ़ारिश को अपनाने का निर्णय एनसीईआरटी पुस्तकों के विकास के लिए जिम्मेदार अधिकारियों पर निर्भर करता है। उन्हें दोनों पक्षों द्वारा प्रस्तुत तर्कों पर सावधानीपूर्वक विचार करने और एक सूचित निर्णय लेने की आवश्यकता होगी जो छात्रों और समग्र रूप से राष्ट्र के सर्वोत्तम हितों को ध्यान में रखे।

पिछला आर्टिकल पढने के लिए यहाँ क्लिक करें 

error: Content is protected !!