No Date After Date, Now There Will be Quick Justice: Shah

Quick Justice, expediting tags with commas, special courts

No Date After Date, Now There Will be Quick Justice: Shah

हाल के एक बयान में, कानून और न्याय मंत्री शाह ने कानूनी प्रणाली में त्वरित न्याय की आवश्यकता पर जोर दिया। उन्होंने अदालती कार्यवाही में तेजी लाने और यह सुनिश्चित करने के महत्व पर प्रकाश डाला कि न्याय तुरंत मिले।

21 December 2023 | National | Dainik Jagran | Newspaper | ePaper | तारीख पे तारीख नहीं, अब होगा न्या

शाह ने स्वीकार किया कि न्याय देने में देरी हमारे सहित कई देशों में लंबे समय से एक मुद्दा रहा है। लंबी अदालती कार्यवाही न केवल न्यायिक व्यवस्था पर बोझ डालती है बल्कि नागरिकों में निराशा और मोहभंग भी पैदा करती है।

कानून और न्याय मंत्री ने जोर देकर कहा कि सरकार इस मुद्दे को संबोधित करने के लिए प्रतिबद्ध है और कानूनी प्रक्रिया में तेजी लाने के लिए कई उपाय शुरू किए हैं। ऐसा ही एक उपाय विशिष्ट प्रकार के मामलों, जैसे कि भ्रष्टाचार या आतंकवाद से संबंधित मामलों को संभालने के लिए विशेष अदालतों की स्थापना है। इन विशेष अदालतों को कानूनी प्रक्रिया को सुव्यवस्थित करने और यह सुनिश्चित करने के लिए डिज़ाइन किया गया है कि मामलों का तेजी से निपटारा हो।

इसके अलावा, शाह ने पारंपरिक अदालत प्रणाली के बाहर मामलों को सुलझाने के लिए मध्यस्थता और मध्यस्थता जैसे वैकल्पिक विवाद समाधान तंत्र के कार्यान्वयन का उल्लेख किया। ये तरीके विवादों को सुलझाने के लिए आवश्यक समय और संसाधनों को काफी कम कर सकते हैं, जिससे त्वरित समाधान और न्याय मिल सकेगा।

एक अन्य पहलू जिस पर शाह ने प्रकाश डाला वह कानूनी प्रणाली में प्रौद्योगिकी के उपयोग का महत्व है। उन्होंने अदालती रिकॉर्ड के डिजिटलीकरण, ऑनलाइन केस प्रबंधन प्रणाली और सुनवाई के लिए वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की आवश्यकता पर जोर दिया। ये तकनीकी प्रगति कागजी कार्रवाई को कम करने, अदालत में भौतिक उपस्थिति की आवश्यकता को खत्म करने और समग्र कानूनी प्रक्रिया में तेजी लाने में मदद कर सकती है।

शाह ने न्यायाधीशों, वकीलों और अदालत के कर्मचारियों के उचित प्रशिक्षण और क्षमता निर्माण की आवश्यकता पर भी जोर दिया। अपने कौशल और ज्ञान को बढ़ाकर, वे मामलों को प्रभावी ढंग से संभाल सकते हैं और अधिक कुशल कानूनी प्रक्रिया सुनिश्चित कर सकते हैं। कानून और न्याय मंत्री ने उल्लेख किया कि सरकार ने कानूनी पेशेवरों के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम और कार्यशालाएं प्रदान करने के लिए पहले ही कदम उठाए हैं।

इसके अतिरिक्त, शाह ने कानूनी प्रणाली के बारे में जन जागरूकता और शिक्षा के महत्व का भी उल्लेख किया। उन्होंने नागरिकों को अपने अधिकारों और जिम्मेदारियों के साथ-साथ न्याय पाने में शामिल प्रक्रियाओं के बारे में जागरूक होने की आवश्यकता पर बल दिया। कानूनी साक्षरता को बढ़ावा देकर, लोग कानूनी प्रणाली को अधिक प्रभावी ढंग से संचालित कर सकते हैं और त्वरित न्याय प्रदान करने में योगदान दे सकते हैं।

Quick Justice

शाह ने लंबित मामलों के बैकलॉग को कम करने के महत्व पर भी प्रकाश डाला। उन्होंने उल्लेख किया कि सरकार अधिक न्यायाधीशों की नियुक्ति और अदालतों की संख्या बढ़ाने सहित अतिरिक्त संसाधन आवंटित करके बैकलॉग को दूर करने की दिशा में काम कर रही है। बैकलॉग को कम करके, कानूनी प्रणाली वर्तमान मामलों पर ध्यान केंद्रित कर सकती है और यह सुनिश्चित कर सकती है कि समय पर न्याय दिया जाए।

अंत में, कानून और न्याय मंत्री शाह ने हमारी कानूनी प्रणाली में त्वरित न्याय की आवश्यकता पर जोर दिया है। उन्होंने कानूनी प्रक्रिया में तेजी लाने के लिए विभिन्न उपायों की रूपरेखा तैयार की है, जिसमें विशेष अदालतों की स्थापना, वैकल्पिक विवाद समाधान तंत्र का कार्यान्वयन, प्रौद्योगिकी का उपयोग और कानूनी पेशेवरों का प्रशिक्षण शामिल है। इन मुद्दों को संबोधित करके, सरकार का लक्ष्य यह सुनिश्चित करना है कि न्याय तुरंत और कुशलता से मिले, न्यायिक प्रणाली पर बोझ कम हो और नागरिकों में विश्वास पैदा हो।

पिछला आर्टिकल पढने के लिए इस लिंक पर जाए- Starc Becomes the Most Expensive Player in the History of IPL 2024

error: Content is protected !!